ज्योतिर्मा तमस गमय

इस संसार में सारी स्थितियां अपने साथ एक नकारात्मक भाव रखती हैं. सुख है, तो दुःख भी, अमीरी के साथ गरीबी सन्निहित है, यथा ही प्रकाश के साथ अंधकार भी सतत गतिमान है. इसी सन्दर्भ में स्मरण में आते हैं अँधेरे के कवि, फ़िराक गोरखपुरी जी. फ़िराक साहब ने अपनी Read more…

Welcome

Well, this happens to be the very first blog I am writing here. It seems to be short but will continue later on.I will be posting my ideas and thoughts on the microblogging site, Twitter. so follow me there on Twitter@imtryam. Thank you. Regards,Tryambak Srivastava